Bundelkhand Dayri


सूखा-विकराल समस्या ,बौने समाधान 
रवीन्द्र व्यास 

बुंदेलखंड की यह धरा कभी  दशार्णा  देश के नाम से   जानी  जाती  थी   यह  नाम इसका यु हीनहीं पड़ा था  यहां की दस 
नदियों के कारण ही दशर्णा  देश कहा जाता था   बाद में इसे बुंदेलखंड के नाम से जानागया  जो  अपनी वीरता के किस्सों के लिए
 जाना  जाता  था   , बुंदेलखंड का आल्हा  यहां के  सैनिको के लहू में ऐसा उबाल लाता था कीदुश्मनों के छक्के छूट जाते थे 
 दो राज्यों में बटी  बुंदेलखंड की वही वीर वसुंधरा  अपने बेटों की भूख और प्यास से व्याकुल है भूख  और प्यास से व्याकुल  अपने
सपूतों को  दम  तोड़ते देख  बेबस माँ रोने को मजबूर है   सियासत का अजब रंग भी यहाँ लोगदेख रहे हैं  उड़न खटोलो से उतरते ,
चमचमाती वातानुकूलित वाहनो में सवार नेताओं और अधिकारियों को देखा   समाज सेवा कास्वांग करने वालों को भी देखा 
हमारी बदहाली की ख़बरों को चटपटा बनाकर लोगों को बेचते देखा  किसी ने नहीं देखा तो सिर्फहमारा दर्द  


             बुंदेलखंड का  इतिहास बताता  है कि 19वीं  20वीं सदी  के दौरान 12 बार सूखा औरअकाल के हालत झेले हैं
 बुंदेलखंड ने ।औसत तौर पर कहा जा सकता है की हर 16 _17 साल में यहां सूखापड़ा   1968 से 1992 के 24 सालों में 
 तीन बार सूखा पड़ा मतलब हर 8 वे साल सूखा पड़ा  जलवायु परिवर्तन का असरपिछले  15 वर्षों में  यहां देखने  को मिला
  और लगभग  हर बार मौसम की मार यहां के लोग झेलने को मजबूर हैं   पिछले कुछ वर्षो मेंयहां  मानसून अनियमित सा हो गया 
कभी कभार  अत्याधिक वर्षा तो कभी वर्षा की कमी जो निरंतर चल रही है  ,उस पर ओला औरपाला के मार , तालाबों , बांधो ,
 कुआँ का सूख जाना  ऐसे कुछ कारण रहे जिन्होंने यहां खेती को पूर्णतःबर्बाद  कर दिया। परिणामतः खेती पर निर्भर 80 
 फीसदी आबादी  के सामने  अब भुखमरी के हालात निर्मित हो गए  सबसे बड़ा संकट  यहां केजानवरो के लिए खड़ा हो गया है , जिनके
 लिए लोगों के पास चारे और पानी की व्यवस्था ना होने के कारण खुले छोड़ दिए गए हैं  सूखतेजल श्रोतो ने आने वाले दिनों के लिए 
एक भयानक हालात की तरफ इशारा कर दिया है  
                                       उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के 13 जिलों  वाले बुंदेलखंड  केहालातों को जानने पिछले दिनों  स्वराज्य
अभियान के संयोजक योगेन्द्र यादव तीन बार बुंदेलखंड का दौरा कर चुके हैं  मध्य प्रदेश केमुख्य मंत्री  अपनी सभाए  कर  चुके हैं  
 प्रदेश के मुख्य मंत्री ने कुछ ठोस समाधान का प्रयास  की बात कही है   कांग्रेस  के राष्ट्रीयउपाध्यक्ष  के आने  की चर्चा चल रही है 
 उनके आने के पहले  कांग्रेसी नेता  बुंदेलखंड का फीड बैक  ले  चुके हैं   २२ जनवरी  कोसंभवतः उन्हें आना है  
  बुंदेलखंड मे अपना  ज्यादा समय देने वाले   योगेन्द्र यादव ने चर्चा के दौरान कहा की  बुंदेलखंडके हालात देख कर मुझे डर लगता है 
 तालब , कुए सूख गए हेंड पम्प जबाब देने लगे हैं  पीने  के पानी का बड़ा ही गंभीर संकट है आज जब यह हालात हैं तो आने वाले
 समय में और क्या हालात होंगे  यदि सरकार ने पानी के लिए अभी से युद्ध स्तर पर प्रयास नहींकिये  तो  मराठवाड़ा जैसे हालात हो 
जाएंगे  पानी की कारण गाँव के गाँव खाली हो जाएंगे  
                योगेन्द्र यादव ने इसके समाधान के लिए उत्तर प्रदेश और मध्य  मंत्रियो को पत्र भीलिखे , पर उनके इन पत्रों का कोई ठोश
समाधान अब तक नहीं निकला है वे इन्तजार कर रहें की कुछ और ठोस समाधान निकले , यदि फिर भी समाधान ना हुआ तो  इसके  सूखा से बेहाल बुंदेलखंड  के लिए  आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे  

बुंदेलखंड इलाके के  60 प्रतिशत से अधिक लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन जीने कोविवश हैं। अधिकांशतः यहाँ  सीमांत कृषक ही  है।  
25 फीसदी किसान  1 से 2 हेक्टेयर  भूमि और अपने परिवार का गुजारा करते हैं  खेती औरजिंदगी जीने के लिए इन किसानो द्वारा लियाकर्जा ही उनकी जान का दुश्मन बन बैठा है  जिसके चलते  यहां  के 3223  किसान 2009 से2014 के बीच आत्म ह्त्या कर चुके हैं  नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़े बताते हैं की 2009 में 568 , 2010 में 583 2011 में 519 ,2012में 745 और2014 में 58 किसानो ने मौत को गले लगाने को मजबूर हुए   इस  बार अधिकृत आंकड़े तो नहीं आये हैं किन्तु  जो तमाम सूत्रों से जानकारी मिली है वह बताती है की 440        किसान आत्म ह्त्या कर चुके हैं 
खरीफ फसल के नुकशान से कई किसान जान गँवा चुके हैं किन्तु रवि फसलों की बुवाई काप्रतिशत औसतन दस फीसदी ही है। 
अधिकांशतःउन्ही इलाको में किसानो ने रवि फसल बोई है जहां पानी की कुछ आस थी  इन हालातो के चलतेबुंदेलखंड इलाके के गाँव के गाँव खाली हो गए हैं 
 बुंदेलखंड इलाके में कार्यरत स्वयं सेवी संस्थाए बताती हैं की  पिछले एक दशक के दौरानबुंदेलखंड इलाके से 62  लाख लोग पलायन कर चुके हे जिनमे टीकमगढ़ से 5 ,89 ,371छतरपुर से 7,66 ,809 सागर से 8 ,49 ,148  पन्ना से 2 ,56,270  ,दमोह से 2 ,70 ,477
 दतिया से 200 901 लोग  वहीँ  उत्तर प्रदेश के बांदा जिले से 7  37 920 ,चित्रकूट से 344801 ,महोबा से 297547 , हमीरपुर से 417489उरई से 538147,झाँसी से 558377,और ललितपुर से 3 81 316 लोग पलायन कर चुके हैं  
                   पत्रकार  रमाशंकर मिश्र एक सामान्य चर्चा में बताते हैं  की गाँवों में तो सिर्फबुजुर्ग और बच्चे ही बचे हैं  पानी की कमी को देखते हुए कुछ समय बाद ये लोग भी गाँव छोड़नेको मजबूर हो जाएंगे  पिछले साल  उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले  में सहारिया जाति केआदिवासी समुदाय नेअपने बच्चों को ऊंट वालो के पास गिरवी रख कर दो जून की रोटी की जुगतकी थी  इस बार स्थिति और भी भयानक है मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के देवेन्द्र नगर विकाशखंड से इस तरह की खबरे  रही हैं की अनाज के लिए लोग अपने बच्चों को गिरवी
रख रहें हैं  
 इस विकराल समस्या  के समाधान की दिशा में कोई खास पहल और योजना अब तक दोनों प्रदेशो की सरकार ने शुरू नहीं की है ।   


एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जनसंख्या नियंत्रण हेतु सामाजिक उपाय आवश्यक

गुफरान की हिम्मत और हिमाकत

Bundelkhand Dayri_Bunkar