संदेश

May, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बुन्देलखण्ड मे गिरता जल स्तर

चित्र
बुंदेलखंड की डायरी 

रवीन्द्र व्यास 
मध्य प्रदेश का यह बुंदेलखंड इलाका भी  भू -जल  दोहन में अग्रणी रहा है | हालात ये बने की ग्राउंड वाटर के मामले में यह  इलाका  भी डार्क जोन में पहुँचने का ख़तरा मंडराने लगा है  | पर यहां के हालात अजीब हैं  बुंदेलखंड के इन जिलों में एक ओर जहां जल स्तर में गिरावट ने स्थितियों को और चिंताजनक बनाया है वहीँ सरकार के प्रयासों पर यहां के अधियकारियों ने जम कर पलीता लगाया है |  सरकार ने बुंदेलखंड पैकेज और मुख्यमंत्री नल जल योजना के माध्यम से  गाँव में नल जल योजनाए शुरू कराई थी |  पर गाँव की इन योजनाओं के सुचारु संचालन में ना अधिकारियों की रूचि थी और ना ही गाँव के सरपंचों की | गाँव के सरपंच इन योजनाओ में घटिया सामग्री को जिम्मेदार मानते हैं | इन हालातों में बुंदेलखंड के सागर संभाग की आधी से ज्यादा नल जल योजनाए ठप्प पड़ी हैं | केंद्र सरकार ने जरूर गिरते जल स्तर के सुधार के लिए 231 करोड़ रु की धन राशि उपलब्ध कराई है | 

 पिछली बार टीकमगढ़ जिले के निवाड़ी ब्लॉक को छोड़ कर बुंदेलखंड में जम कर वर्षा हुई थी | वर्षा से तमाम जल श्रोत लबालब भर गए थे , इसके बावजूद बुंदेलखंड में…

जल कुंड और जल धारा से प्यास बुझाने को मजबूर लोग

चित्र
बुंदेलखंड की डायरी 
रवींद्र व्यास 
वो 2013 का साल था , मध्य प्रदेश का बुंदेलखंड इलाका भी चुनावी रंग में रंगा हुआ था | इस  चुनाव के प्रचार के दौरान  मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह  जगह जगह  मंच से  लोगों को और  महिलाओं को विकाश के सपने दिखा  रहे थे | उन्ही स्वप्नों में उन्होंने बुंदेलखंड की महिलाओ को एक सपना जल का भी दिखाया था | " अब हमारी माताओ और बहनो को पानी के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा , अब उन्हें दूर हेंड पम्प या कुए  तक पानी भरने नहीं जाना पडेगा , अब ऐसी व्यवस्था होगी की टोंटी खोली और पानी हाजिर " | उनकी यह बात महिलाओं को खूब भाई और दिल खोल कर महिलाओं ने कमल का बटन दबाया और कमल मध्य प्रदेश और बुंदेलखंड  में फिर खिला दिया | तीन वर्ष पांच माह बीत जाने के बाद भी  बुंदेलखंड के लोग शिवराज के सपने को याद कर स्वप्न लोक की सैर कर लेते हैं | क्योंकि उनके जीवन में तो आज भी पानी की त्रासदी भोगने की विवशता है |


                                                 मध्य प्रदेश के  बुंदेलखंड के हालात स्वयं अपनी कहानी बयां कर रहे हैं की प्रदेश के मुखिया के मुख से निकली बात का कि…