संदेश

February, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

JNU_Nraty Gopal Das

चित्र
जेएनयू के जन्म से ही  राष्ट्र द्रोह का काम रहा : महंत नृत्य गोपाल दास राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण की कोई तिथी तय नहीं हुई है :-महंत नृत्य गोपाल दास 

छतरपुर /एम पी /27 फरवरी 2016   राम जन्म भूमि न्यास के प्रमुख संत महंत नृत्य गोपाल दास ने आज पत्रकारों से चर्चा करते हुए  कहा की मोदी सरकार अब तक की सर्वश्रेष्ठ सरकार है । जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय के जन्म से ही यही काम होता रहा है । राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के लिए मोदी जी को थोड़ा  समय दिया गया है । मंदिर निर्माण की संत समाज ने कोई तिथी तय नहीं की है । बुंदेलखंड में दुर्भिक्ष से निपटने के लिए संत समाज पहल करेगा ।                               जेएनयू के सवाल पर महंत ने कहा  की जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय ,इसका जो जन्म है जन्म से ही राष्ट्र द्रोह , साधू संतों का द्रोह वा लोक समाज के विपरीत हमेशा से ही रहा है । जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय का यही काम रहा है । इसलिए हम लोग पागल जो लोग होते हैं " वातल भूत विवश मन वारे ते नहीं बोले वचन सँवारे "" इसलिए हम लोग ऐसे लोगों की बातो पर ध्यान नहीं  देते । सारा राष्ट्र और जनता…

Bundelkhand_Bhim Kund

चित्र
/बुंदेलखंडमेंहैअथाहजलश्रोतकाकेंद्रभीमकुण्ड



 रवीन्द्र व्यास 



बुंदेलखंडआजसूखेकीभयावहतासेविचलितहै , लोगपीनेकेपानीकेलिएपरेशानहैं।समाजवादीनेतारघुठाकुरकोबुंदेलखंडकीसमस्याओंकोलेकरदिल्लीकेजंतरमंतरपरधरनादेनापड़रहाहै।उसीबुंदेलखंडमेंपानीकाएकऐसाअथाहश्रोतभीहैजोआजभीलोगोंकेलिएकिसीरहष्यसेकमनहींहै | समुद्रकिगहराईतोभलेहीमापलीगईहोपरइसकीगहराईआजतककोईनहींमापसका | छतरपुरजिलाकेबड़ामलहराकेपास अथाह जल का श्रोत है  भीमकुंड । ऊपर से देखने पर एक 50 से 75 मीटर  व्यास का आकार दिखता है । भूवैज्ञानिक मानते हैं की यह इलाका चूना पत्थर( लाइम स्टोन ) का इलाका है , जहां यह कुण्ड बना है वह भी  लाइम स्टोन की केविटी वाली सरचनाओ  कारण ही बना है | लाइम स्टोनज्यादानर्महोताहै , औरपानीकेसंपर्कमेंआनेकेकारणइसमेजगहजगहकेविटीबनजातीहैजिसकेकारणइसमेपानीजमारहताहै | पानीकेअथाह
चित्र
परम्परागत खेती से बदली गाँव की तस्वीर  रवीन्द्र व्यास  सूखा की त्रासदी के बीच  बुंदेलखंड  के  सूखा  ग्रस्त  टीकमगढ़  जिला का एक  गाँव अपनी परम्पराओ को अपनाकर  सूखा का डट कर मुकाबला कर रहा है । कल तक जिस गाँव से पलायन का  तांता लगता था , गाँव वीरान और बेजार  हो जाता था ,आज उस गाँव से रोजगार की तलाश में होने वाला पलायन रुक गया है । गाँव के दलित पड़े लिखे नौजवान  भी सरकारी नौकरी नहीं खेती करना ज्यादा बेहतर मानने लगे हैं । गाँव में यह परिवर्तन  यू ही नहीं आया बल्कि  इसके  लिए गाँव वालों ने बुंदेलखंड की खेती की  प्राचीन परम्पराओ को अपनाया है । 

       जब हम  टीकमगढ़ जिले के   गयाजीत पुरा  गाँव में पहुंचे  तो  ऐसा लगा मानो बुंदेलखंड के मीलो लम्बे वीराने में  आशा की एक किरण मिल गई हो ।  बुन्देलखंडियो के जुझारूपन  और  विपरीत परिस्थितियों में भी संघर्ष की क्षमता  अदभुत मानी जाती है । इस गाँव में भी यही सब कुछ देखने और समझने को मिला । यह गाँव भी आम बुंदेलखंड के गाँवों  की तरह  छोटा सा गाँव है , ज्यादातर किसान  एक दो एकड़ में अपनी खेती कर अपने और अपने परिवार की जिंदगी की  गाडी खींचते थे ।  मौसम के मिजाज क…

Bundelkhand Dayri_

चित्र
बुंदेलखंड की उपेक्षित जल सरचनाये  रवीन्द्र व्यास  बुंदेलखंड के उत्तर प्रदेश वाले इलाके के जिलों में प्रदेश सरकार ने सूखा से  स्थाई राहत  का रास्ता तलाशने का प्रयास किया है ।
उत्तर प्रदेश सरकार को शायद समझ आ  गया है की पानी बगैर बुंदेलखंड में जीवन नहीं बचेगा ।  इसी को ध्यान में रख कर सरकार ने  2000  तालाब खुदवाने का फैसला किया है । सरकार के मुख्य सचिव आलोक रंजन की अध्यक्षता में  शुक्रवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया ।हालांकि प्राचीन तालाबों और बुंदेलखंड की परम्परागत जल संरचनो की   दशा सुधारने
की कोई योजना नहीं बताई गई है ।   बुंदेलखंड के   लिए  सरकार का यह निर्णय कितना लाभकारी होगा  यह तो  आने वाले समय में पता चलेगा ।  पर फिलहाल  तात्कालिक जरुरत  पानी है  जिसके लिए सरकार  को प्रयास करने  की जरुरत है ।                                          उत्तर प्रदेश सरकार  जो  २००० तालाब बुंदेलखंड इलाके में बनवाएगी  उसके लिए 50 फीसदीअनुदान देगी । मतलब साफ़ है  तालाबों से जनता की भागीदारी को भी जोड़ा जा रहा है ।  ताकि   जल संकट के प्रति हम जागृत हो , अपनी नदियों, तालाबों के लिए कुछ आस्था का भाव जा…
रेप की फर्जी रिपोर्ट करने पर महिला को सजा
टीकमगढ़/ बुंदेलखंड इलाके में अपने विरोधी को फ़साने के लिए , बदला लेने के लिए महिलाओ को औजार की तरह किया जाता है इस्तेमाल । ऐसी ही एक महिला ने टीकमगढ कोतवाली में सन 2000 में दो पुलिस आरक्षकों के विरूद्ध बलात्कार का मामला दर्ज कार्या था । जांच में दुराचारकीझूठीरिपोर्टदर्जकरानेकेमामलेमेंविशेषन्यायाधीशजेएसकटारियाने महिलाको 3 सालकीसजाव 2 हजाररुपयेकेअर्थदंडकी सजा सुनाई है । 
महिलाकीरिपोर्टपरफंसेथे 2 आरक्षक-      
 8 मार्च 2000 कोकोतवालीटीकमगढ़ में पुलिस आरक्षक अशोकसेनवनेपालकेविरूद्ध  महिला ने रेप की  रिपोर्टदर्जकराईथी।पुलिसनेदोनोंआरक्षकोंकेविरूद्धमामलाकायमकरन्यायालयमेंपेशकियाथा,।  लेकिनन्यायालयमेंमहिलाअपनेपूर्वकेदिए<