संदेश

2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बुंदेलखंड में राहुल की राजनीती

रवीन्द्र व्यास
"नाजीतेआशानामरेनिराशा "


बुंदेलखंडकेलोगोकीदशाइसीकहावतसेमिलतीजुलतीहै |इसदर्दकोआजादी६दशकबीतजानेकेबादकेबादकिसीनेसमझाहै ,वेहैराहुलगाँधी |उनकीरणनीतिएकसोचीसमझीराजनीतीकेतहतचलरहीहै |वेइसइलाकेकेगावमेंरातबितातेहै ,लोगोकेदर्दकोकरीबसेसमझनेकाप्रयासकरतेहै |औरउसकासमाधानतलाशते

सेवा का दर्द

लखन तिवारी ये नाम है उस व्यक्ति का जो अस्पताल आने वाले गरीब बेसहारा लोगो की मदद करता था ,जिस मरीज का कोई नही होता उसका साथी बन जाता ,गर्मियों में मटके रख कर मुफ्त में लोगो को ठंडा पानी पिलाता \अपनी रोटी की जुगाड़ भी वह लोगो की सेवा कर किया करता था १५ साल पहले वह नोगाव में कंहा से आया कोई नही जनता ,हर कोई सिर्फ़ इतना जनता है की वो बेसहारों का सहारा है आज वो पेरो से लाचार है चल नही पता ,पिछले दो माह से बुडापे की बीमारियों से ग्रस्त है उसे पेट की आग बुझाने के लिए दो वक्त की रोटी भी अब नसीब नही होती आज उसकी आँखों में अपनी ही दशा के प्रति बेबसी नजर आती है ,पर ना उसे समाज शिकायत है ,ना ही अपने से उसकी इस दशा का पता चलने पर यहाँ के कुछ नोजवानो ने उसे अस्पताल में भरती कराया ,उसके भोजन पानी की व्यवस्था कराइ पर अस्पताल के वे डाक्टर और नर्स उसे भूल गए जिनकी सेवा में वो सदेव तत्पर रहता था वे लोग भी उसे भोल गए जिनकी सेवा में वो जीजान से लगा रहा उसके सेवा कार्य को सम्मान दिया तो सिर्फ़ नोजवानो ने नोजवानो का कार्य निश्चित तो़र पर सराहनीय कहा जा सकता है ,साथ ही उन लोगो पर तमाचा भी जिन्ह्ये आज क…

बदहाल बुंदेलखंड

मध्य प्रदेश और उतर प्रदेश में विभक्त देश का एक एसा इलाका है जंहा की धरा हीरा उगलती है ,कीमती खनिज संपदा से भर पूर इस इलाके की बदनसीबी यह देखिये की यहाँ के लोग अभावो और बदनसीबी में जीने को मजबूर है इस ब्लॉग को बनाने के पीछे भी मकशद यही है की यहाँ की वास्तविकता के बारे में कुछ लिख सकू
"कोंडी नही पास ,मेला लगे उदास " : दुनिया में तरक्की की नई कहानिया लिखी जा रही है ,देश की विकास दर बढ रही है ,कम्पनिया हीरा खोद कर यहाँ से ले जा रही है ,कम्पनिया हीरे से चमक रही है पर ,यहाँ के लोगो की दशा कोडी नही पास मेला लगे उदास जैसी ही है यहाँ किसान कर्ज के बोझ तले आत्म हत्या करने को मजबूर है , पेट की आग की खातिर वो देश ही नही विदेशो में भी जाकर मजदूरी करने को लाचार है
"गरीबी झगडे की जड़ "की ये कहावत इस इलाके में सटीक बैठती है आख़िर बेठे भी क्यो नही ,कहते है ना खाली दिमाग शेतान का ,जब खेत सूखे होंगे ,पेट भूखे होंगे तो ,शेतान तो हावी होगा ना ,यही शेतान झगडा फसाद कराता है ,बेबस लोग या तो मो़त को गले लगा लेते है या जंगल की राह पकड़ लेते है हाल के डकेतों की यही कहानी सामने आई है ,जिसमे ज…

लाश लटकती रही

छतरपुर जिला के बड़ा मलहरा कसबे में एक हम्माल तुलसी यादव को पुलिस इस लिए पकड़ कर ले गई थी क्यो की उसके बेटे पर चोरी करने का शक था बेटे के कारण मिली इस जलालत को खुद्दार पिता बर्दास्त नही कर सका और उसने आत्म हत्या कर ली उसका शव बेरी के पेड़ पर २९ वा ३० अक्तूबर के दोरान १८ घंटे तक लटकता रहा लोगो ने इस शव को तब तक पुलिस को हाथ नही लगाने दिया जब तक वहा मीडिया वाले नही पहुँच गए
पुलिस की इस हरकत से गुसाये लोगो ने २९ की शाम चक्का जाम भी किया था ,इस जाम में जिला पंचायत सी .इ.ओ। ऍम.रघुराज भी फँस गए थे हालाँकि रघुराज के कहने पर ग्रामीण शांत हुए \\३० को जब मीडिया वाले पहुंचे तब कही जा कर लाश को उतारा जा सका और उसका पोस्ट मार्टम हुआ मामले की मजेस्त्रिअल जाँच बिजावर एस.डी.एम्। एस.एन.शुक्ला ने शुरू कर दी है ,मृतक के परिवार को दस हजार की आर्थिक सहायता दी गई है
सवाल ये उठता है की सामान्य मोबाईल चोरी के मामले में पुलिस इतनी सक्रीय केसे हो गई ,मामले के असली आरोपी ना मिलने पर उसके पिता को उठा लाई,बड़ी गंभीर मामलो में निष्क्रिय रहने वाली पुलिस की इस मामले में सक्रियता अनेको सवालों को जन्म देती है !क्या ए…

हीरा अब छतरपुर में ०२

रिओटिंटोनेछतरपुरजिलेकेबक्स्वाहामेंहीराप्रोसेसिंगप्लांटतोशुरूकरदियाकिंतुइसेलेकरस्थानीयलोगोमेंखासाअसंतोषभीदेखनेकोमिला ,गाववालोकीअपनीअपनीशंकाएहै \
आशंकाए :=ग्रामीणोंनेउदघाटन केमोकेपरबाकायदाविरोधप्रदर्शनकिया | इनलोगोकोस्थानीयछुटभइयानेताओनेभड़कायाथा ,साथहीजिलाप्रशासनकीलापरवाहपूर्वकनितिभीइसकेलिएजिम्मेदाररही ,प्रशासन वाआमजनतातथाप्रेसकेबीच इतनागेपहैकी ,कोईकिसीकोवास्तविकस्तिथिबतानाहीनहीचाहता |जिसकेचलतेतमामतरहकेविरोधाभासउत्पन्नहुए | जिसकासमाधानकरनेकाप्रयासजिलाकलेक्टरनेनहीकिया |ग्रामीणोंकीआशंकाएहैकीउनकीजमीन कहीं छीन नाजाए , खुदाईसेनिमानीगाव वाआसपासकेगावोकाजलस्तर नीचे चलाजायेगा | स्थानीयलोगोकोरोजगार

हीरा अब छतरपुर में

खजुराहो के मंदिरों के कारण पहचाना जाने वाले छतरपुर जिला को अब एक नई पहचान मिल गई है ,हीरा के कारण मिली इस नई पहचान के कारण छतरपुर अब एशिया में दूसरा जिला बन गया है जहा हीरा निकलता है मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिव राज सिंह चौहान ने २७ अक्तूबर को हीरा सेम्पल प्रोसेसिंग प्लांट का उदुघाटन किया इससे इस एरिया में नई ओधोगिक क्रांति की शुरुआत होगी

आस्ट्रेलिया की प्रमुख कंपनी रियो टिंटो ने (रियो टिंटो एक्सप्लोरेशन इंडिया प्रा.ली.)ने २००४ से इस जिले के बक्सवाहा इलाके में हीरा खोजने का काम शुरू किया था कम्पनी को इस एरिया में ८ किम्बरलाईट रोक्स (चट्टान ) का समूह मिला कम्पनी ने इस प्रोजेक्ट का नाम "बन्दर परियोजना" दिया है ३३ करोड़ की लागत के इस आधुनिक प्लांट को रियो टिंटो ने ऐसे ही नही लगाया है ,कम्पनी को जो प्रारंभिक रिपोर्ट मिली है उसके मुताबिक यहाँ ३७ मिलियन टन हीरा के भंडार है ,हीरे की गुणवत्ता भी पन्ना के हीरा से बेहतर है ,कम्पनी को भरोशा है की यहाँ का हीरा पन्ना हीरा खदान से ७ गुना ज्यादा मूल्यवान होगा , यहाँ की उत्पादन छमता भी पन्ना से २० गुना ज्यादा होगी इस वर्ष के अंत तक प्रारंभ…

सत्ता का सामंतवाद

छतरपुर/ न्यायलय ने आज एक आदेश में ,सियासत के सामंती गठजोड़ को बेनकाब कर दिया है मध्य प्रदेश में सियासत का एक एसा खेल खेला जा रहा है जिसमे जोर जुल्म ओर जालिमो को बाकायदा सरकार का संरक्षण दिया जा रहा है एसा ही संरक्षण पूर्व विधायक विजय बहादुर सिंह (बी.जे.पी.) को दिया गया था जिस पर २२ अक्तुबर०९ को न्यायलय ने सक्त एतराज जताया ,ओर सत्ता की सियासत के दबाव में हटाई गई धाराए पुनः जोड़ दी वा पूर्व विधायक जी को जेल का रास्ता दिखा दिया \ये अलग बात है की नेता जी जेल के नाम से बीमार हो गए और उन्हें हॉस्पिटल में भरती करा दिया गया
बुंदेला जी ने विधान सभा चुनाव इस बार भाजपा के टिकट पर लड़ा था ,पर विधान सभा एरिया बदल जाने के कारण वे चुनाव हार गए जाहिर है उनके सपने टूट गए ,अब जिसके सपने टूटते है वे दुखी होते है ,सपने टूटने के कारण तलाशते है ,अब ऐसी दशा में उन्हें कारण समझ आया की हमारी पार्टी के लोगो ने धोखा दिया है , उनकी नजर में सबसे बड़ा धोखे बाज प्रकाश पांडे था , ऐसे धोखे बाज को सबक सिखाने के लिए नेता जी खुद निकल पड़े ,उन्होंने अपने दल बल के साथ पांडे जी की जमकर मरम्त कर दी मर्नासन्य दशा में प…

बुजुर्ग को नगा कर घुमाया

छतरपुर जिले के एक गाव में १४ अक्टू०९ का दिन शर्मनाक दिन था ,इस गाव के बुजुर्ग रामस्वरूप पांडे उम्र लगभग ८० साल , को गाव के जेंटू राजा ने पहले पांडे जी के घर में जा कर गाली गलो़च की , फिर अपनी मोटर साइकिल पर बेठा कर खेत तरफ़ ले गया वहा भी भला बुरा कहता रहा , वापस घर आकर छोडा तो दारू-मुर्गा के लिए राजा साहब ने फरमान सुना दिया ना देने पर ,राजा साहब नाराज हो गए और पांडे जी को घर से मारते पीटते गाव की चोपाल पर ले गए , उनकी बहु ने बचाने का प्रयास किया तो उसे भी पीटा // चोपाल में पांडे जी की उम्र का ख्याल भी राजा साहब को नही आया ,उनको नंगा कर पीटते हुए गाव में घुमाया गया क्या मजाल किसी गाव वाले की कोई कुछ बो़ल देता ,गाव के लोग ये तमाशा देखते रहे पुलिस कहती है की मामला दर्ज कर लिया है , पर आरोपी अभी फरार है //
देखा जाय तो यह बुन्देल खंड इलाके की कोई पहली घटना नही है , इसके पहले भी इस तरह की घटनाये होती रही है , घटना के कुछ समय तक हो हल्ला मचता है फिर सब कुछ शांत हो जाता है या शांत करा दिया जाता है ,\ इस व्यवस्था में अत्याचारी या तो…

लालू के कुल्हड़ ,

बुंदेलखंड में लालू के रेल मंत्री के कार्य काल में खोली गई कुल्हड़ फेक्टरी अब बंद हो गई है ,फेक्टरी लगाने वाले अमित शर्मा नामक नोजवान को भरोषा था की लालू के बात में दम है इस से लोगो को रोजगार मिलेगा और देश में होने वाले पर्यावरण के नुकशान से निजात मिलेगी शर्मा जी के कुल्हड़ ना लालू राज में बिक पाए और ना अब ये अलग बात है की लालू के कुल्हड़ के चक्कर में अमित जी की फेक्ट्री को खाशा नुकशान उठाना पड़ा
इसी लिए तो कहते है की भाई नेता जी की बात जरा सो़च समझ कर माना करो ना जाने उनकी किस बात का क्या अर्थ हो कुम्हारों के लालू को वोट चाहिए थे , तो कुल्हड़ की बात कहने लगे थे , ये देश एशे ही नेता जी लोगो से भरा पड़ा है
विडियो देखे /