संदेश

August, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

लुप्त होती बुंदेली परम्परा सावनी

बुंदेलखंड की डायरी

अबनहींडलतेसावनकेझूले _ चपेटाकोभूलीबालिकाए रवीन्द्र व्यास 
बुंदेलखंडी जीवन शैली  वैसे तो प्रकृति  से सामंजस्य की अदभुत  जीवन शैली है ।  यहां का हर त्यौहार , प्रकृति  और  लोक  रंजन से जुड़ा है ।   अब शायद बुंदेलखंड की  इस जीवन परम्परा को भी आधुनिकता का ग्रहण लग गया है । सावन की कई परम्पराए  जो कभी लोगों के प्रकृति प्रेम और आपसी समन्वय  और  प्रेम को दर्शाती थी अब सिर्फ किस्से कहानियो तक सिमट कर रह गई हैं । अब ना नव वधु के घर भेजी जाने वाली सावनी की परम्परा बची और ना ही वृक्षों की डाल पर डलते झूले बचे | ना बच्चो के हाथ से घूमते लट्टू और चकरी |                             वर्षा ऋतू  में जब चारों और हरियाली व्याप्त हो ऐसे में किसका मन प्रफुल्लित ना होगा । ऐसे में बुंदेलखंड के घर - घर में ऊँचे वृक्ष की डाल पर झूले डाले जाते थे ।  धीरे - धीरे ये गाँव के झूलो तक  पहुँच गए । और अब किसी किसी गांव में ही ये झूले  और झूलों पर झूलती बालाएं देखने को मिलती हैं |    सावन का महीना  उल्लास और उमंग का महीना बुंदेलखंड में माना जाता  था ।गाँव - गाँव में महिलाये और बालिकाए गाँव में ल…