संदेश

November, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बुंदेलखंड में भारी पड़ेगी उमा भारती की उपेक्ष

रवीन्द्र व्यास 
बुंदेलखंड _ में चुनावो का शंख नाद हो चुका है / मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री नरेंद्र मोदी के नक़्शे कदम पर चलकर अपना खुद का वजूद पार्टी को बताने में जुटे हें / अपने इस अभियान के तहत उन्होंने मध्य प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनवाने वाली उमा भारती को दरकिनार कर दिया है \  मध्य प्रदेश के पहले चुनाव में 4 . 71 फीसदी वोट लेकर उमा भारती ने कांग्रेस को 2008 में सत्ता में  आने  से रोक दिया था , अन्यथा 5. 24 फीसदी मतों के अंतर से हारने वाली कांग्रेस कहीं और होती /  बुंदेलखंड में तो यह आंकड़ा और भी खतरनाक है \ यहाँ उमा भारती को 12. 34 फीसदी मत मिले थे , और उसके दो प्रत्याशी चुनाव जीते थे चार स्थानो पर वे जीत कि कगार पर थे \ जब कि इस इलाके में कांग्रेस और बीजेपी के मतों मात्र 3. 63 फीसदी मतों का ही अंतर था ।  तीसरी बार सरकार बनाने का सपना संजोय शिवराज सिंह को बुंदेलखंड में उमा कि उपेक्षा भारी पड़ सकती है । 
देखा जाए तो मध्य प्रदेश में सत्ता के बाहर बैठी कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है और पाने के लिए प्रदेश कि सत्ता है \ इसको देख कांग्रेस के कार्यकर्ता और नेता अपना सब कुछ भुल…