संदेश

April, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सुरा(शराब )पर संग्राम

चित्र
बुंदेलखंड की डायरी 
रवीन्द्र व्यास 

बुंदेलखंड के झाँसी एस एस  पी कार्यालय में पिछले साल दो सगी बहने पहुंची थी | इनने पुलिस को जो दर्द सुनाया था उसे सुन वहां मौजूद हर किसी की आँखें नम हो गई थी | इनके माता पिता ने शराब लिए इन दोनों को बेंच दिया था |  शराब से  घरों को  और लोगों को  बर्बाद करने वाली यह कोई पहली घटना नहीं है , इस तरह के अनेकों मामले सामने आ चुके हैं | फर्क इतना है की बर्बाद होने वाले ज्यादातर लोग कमजोर  और माद्यम वर्ग के  थे इस  कारण ऐसे लोगो की जिंदगी और मौत  पर कोई विशेष ध्यान सियासत का  नहीं जाता |  शराब के अभिशाप का सबसे ज्यादा शिकार भी महिलाये ही होती हैं , और जब उन्होंने देखा की उनके परिवार की बर्बादी का सामान उनकी ही बस्ती में आ गया तो वे मौन नहीं रह सकी | परिवार और समाज को बर्बादी से बचाने के लिए उन्होंने कमर कस ली  हाथों में डंडे लेकर निकल पड़ी मुकाबला करने के लिए | 
                                          सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए  निर्णय दिया कि  राष्ट्रीय राज मार्ग की शराब दुकाने हटाई जाए | माना गया की यह एक बड़ा कारण है जिसके चलते लोग श…

बुन्देलखण्ड से श्री राम का नाता

चित्र
बुंदेलखंड की डायरी  रवीन्द्र व्यास  मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान् श्री राम का जितना नाता अयोध्या से है , उतना ही नाता उनका बुंदेलखंड से भी है । बुंदेलखंड की पावन धरा चित्रकूट में उन्होंने अपना वनवास काल बिताया । और  दैत्यों के संहार के लिए उन्होंने पन्ना के सारंग धाम में उन्होंने दैत्यों के सर्वनाश के लिए धनुष उठाया था । बुंदेलखंड के ही  गोस्वामी तुलसी दास ने राम चरित्र मानस लिख कर उनकी  भक्ति की गंगा प्रवाहित कर दी । उसी बुंदेलखंड के छतरपुर शहर से भगवान् श्री राम जन्मोत्सव की परम्परा 2005   से एक अनोखे अंदाज में शुरू हुई ।  


छतरपुर से शुरू हुई ये परम्परा अब सारे बुंदेलखंड इलाके  और  देश के अनेक इलाकों में फ़ैल गई है | यहाँ एसा लगने लगता है की वास्तव में क्या भगवान् श्री राम फिर से जन्म ले रहे हें , उनके जन्म के बाद लोगों के उत्साह और उम्मंग को देखकर यही लगता है जेसे भगवान् ने ही अवतार ले लिया हो |    चैत्र शुक्ल नवमी का दिन हिन्दू धर्मावलंबियों के लिए एक ख़ास दिन होता है । इसी दिन  त्रेता  युग में अयोध्या के रघुकुल शिरोमणि महाराज दशरथ एवं महारानी कौशल्या के यहाँ भगवान् श्री राम  ने पुत्र के रू…