संदेश

February, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Fwd: Story Script/ Khajuraho Matangeswar

मतंगेस्वर मंदिर जहाँ हर मुराद होती है पूर्ण 
[रवीन्द्र व्यास ] खजुराहो के मंदिर वेसे तो दुनिया भर में काम कला के मंदिरों के रूप में विख्यात है| किन्तु यंहां का  मतंगेस्वर शिव मंदिर हिन्दुओं की आस्था का बड़ा केंद्र है |यही एक मात्र एसा मंदिर है जहाँ आदि काल से निरंतर पूजा होती चली आ रही है | चंदेल राजाओं द्वारा नोवी सदी  में बंनाये गए इस मंदिर में के शिव लिंग के नीचे एक एसी मणि है जो हर मनोकामना पूरी करती है \ कभी यहाँ भगवान् राम ने भी पूजा की थी | शिव रात्रि के दिन यहाँ शिव भक्तों का तांता लगा रहता | खजुराहो के सभी मंदिरों में सबसे ऊँची जगती पर बने इस मंदिर में जो भी आता है वो भक्ति में डूब जाता है चाहे वो हिन्दुस्तानी हो या विदेशी | कहते है की यह शिव लिंग किसी ने बनवाया नहीं है बल्कि यह स्वयंभू शिव लिंग है \ १८ फिट की मूर्ति है  जितना ऊपर है उतना ही नीचे भी है |ये मूर्ति प्रति वर्ष तिल के बराबर बढती भी है | मतंग ऋषि करते थे पूजा   यंहां मतंग ऋषि इस शिव लिंग की पूजा करते थे | इसका नाम मतंगेस्वर स्वयं  भगवान् श्री राम ने मतंग ऋषि के नाम पर रखा था |हमे यहाँ मिले यमुना प्रसाद मिश्रा [योगी] …