संदेश

September, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जन से दूर जन सुनवाई

चित्र
रवीन्द्र व्यास  ========================================================= मुख्य मंत्री द्धारा हर जिले में मंगलवार को जन समस्याओं के निपटारे के लिए शुरू किये गए जन सुनवाई शिविर अब सिर्फ रस्म अदायगी के तौर पर रह गए हैं /  जन से दूर होते जन सुनवाई शिवरो में अब विभाग प्रमुख नहीं बल्कि उनके अधीनस्थ औपचारिकता पूर्ण करते हैं /  इसी दूरी  का नतीजा है की  पिछले दिनों छतरपुर के जिला पंचायत कार्यालय के सामने एक ग्रामीण युवक भ्रष्टाचार के विरुद्ध आमरण अनशन पर बैठने को मजबूर हुआ / गौरगांयनिवासीसमाजसेवीमहेशरिछारिया पिछले कई महीनो से सरकार के जन सुनवाई समारोह में शामिल हो कर गांव की पंचायत में व्याप्त भ्रस्टाचार की जांच की मांग करता रहा / महेशको भरोषा था की मुख्य मंत्री द्धारा आम नागरिको की सुनवाई के लिए शुरू की गई जन सुनवाई योजना से उसे न्याय मिल जायेगा और सरकार के धन की वसूली हो जाएगी / इसलिए उसने कलेक्टर को सरपंच द्धारा किये गए गोलमाल के सारे दस्तावेज दिए/ हर कागजी शिकायती आवेदन की तरह इसकी भी वही दशा हुई जो औरों की होती है/ मजबूर और हताश होकर महेश ने कुछ समय पहले जन सुनवाई के आवेदनो को अपने शरीर पर …